कामवासना डॉट नेट

-Advertisement-

ससुर के सामने बीवी को चोदा 
@Kamvasna 05 मई, 2023 17245

लंबी कहानी को बिना स्क्रॉल किए पढ़ने के लिए प्ले स्टोर से Easy Scroll एप डाउनलोड करें।
मेरी शादी के कुछ महीने बाद मुझे पता चला के मेरी बीवी के चाल चलन ठीक नहीं है। फिर मैंने इसके बारे मे बीवी से बात की और उसे समझाया भी लेकिन वो नहीं मानी और फोन पर दूसरे मर्दों से बातें करती रहती। मैं इससे काफी परेशान रहने लगा। फिर एक दिन मैं अपने ससुराल गया तो मैंने हिम्मत करके इस बारे में अपने ससुर से बात की और उन्हे सब कुछ बताया। फिर ससुर बोले के बेटा मैं भी उसे कई बार समझा चुका हूँ लेकिन मेरी भी वो कहाँ सुनती है। फिर ससुर ने मुझसे कहा के तुम कैसे भी करके उसे सुधार दो। फिर मैं सोचने लगा के बीवी को कैसे लाइन पर लाया जाए। 
 
फिर एक बार मैं और बीवी ससुराल गए थे तो वहाँ पर मेरा इस बात पर बीवी से झगड़ा हो गया। ससुराल में मेरे ससुर ही है। मेरी सास कुछ साल पहले मर गई थी और ससुर के बेटे यानि मेरे साले बाहर रहकर काम करते थे। फिर हम लड़ते लड़ते अपने कमरे से बाहर आ गए। ससुर भी वहीं बैठे थे। फिर मुझे बहुत ज्यादा गुस्सा आ गया और फिर मैं बीवी को पीटने लगा और उससे कहने लगा के उसकी एक लंड से प्यास नहीं बुझती है क्या। फिर मैंने बीवी के कपड़े फाड़ दिए और उसे अधनंगी कर दिया और पीटता रहा। फिर मैंने उसके बचे कूचे कपड़े भी निकाल दिए। उसे नंगी देखकर मैं गरम हो गया तो फिर मैं खुद भी नंगा हो गया। फिर मैंने बीवी को वहीं घोड़ी बनाकर चोदने लगा। मैंने बीवी की गाँड पर थप्पड़ थप्पड़ मार मार कर लाल कर दी। 
 
हमारे सामने ही ससुर बैठे थे। लेकिन तब मैं बिल्कुल होश मे नहीं था और बीवी को लगातार चोदता रहा। फिर कुछ देर बाद मैं झड़ गया तो मैं वहीं बैठ गया। बीवी को मैंने काफी मारा था तो वो फर्श पर नीचे ही सो गई। फिर ससुर खड़े हुए और अपनी बेटी के सिर के बाल पकड़कर उसके मुँह को ऊपर उठाया और फिर ससुर बीवी के गालों पर थप्पड़ मारने लगे। कई थप्पड़ मारने के बाद ससुर अपने कमरे मे गए और दारू की एक बोतल लेकर आए। फिर हम दोनों बैठकर दारू पीने लगे और बीवी फर्श पर पड़ी पड़ी रो रही थी। फिर ससुर बीवी को गाली निकालने लगे। फिर मैं बीवी को फिर से चोदने लगा तो बीवी अपने हाथों से अपने बोबो को छुपाने लगी। फिर ससुर ने बीवी के कई थप्पड़ मारे और बोले के हरमजादी दूसरे मर्दों से बात करती थी तब शर्म नहीं आती थी और अब शर्म आ रही है। 
 
फिर मैंने बीवी के हाथ पकड़ कर पीछे कर लिए और फिर बीवी को चोदने लगा। इस प्रकार आधी रात तक यही कार्यक्रम चलता रहा। फिर हम सो गए। फिर हम सुबह उठे तो देखा के बीवी अभी फर्श पर ही सोई थी। तो ससुर ने बीवी की गाँड पर जोर से लात मारकर उठाया और फिर चाय बनाने को कहा। फिर बीवी उठकर चाय बनाने चली गई। मैं अभी तक नंगा ही था तो फिर मैं ऐसे ही रहा। फिर बीवी चाय बनाकर लाई तो चाय बनाकर फिर से मैं बीवी को घोड़ी बनाकर चोदने लगा और ससुर अपने कमरे मे चले गए। फिर चुदाई के बाद बीवी घर का काम करने लगी। थोड़ी देर बाद ससुर अपने कमरे से बाहर आए तो फिर वो बीवी को पकड़कर पीटने लगे। 
 
पीटाई के बाद बीवी रोती रही और काम करती रही। फिर कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा। फिर धीरे धीरे बीवी सुधर गई और अब वो घर का सब काम करती है और अच्छे से रहती है। लेकिन अब भी कई बार मैं उसे ससुर के सामने नंगी करके चोद देता हूँ। 
 

 

संबधित कहानियां
Dusre Bua ki chudai
Dusre Bua ki chudai
Pyasi bua
Pyasi bua
पड़ोसन चाची की मजेदार चुदाई
पड़ोसन चाची की मजेदार चुदाई

कमेंट्स


कमेन्ट करने के लिए लॉगइन करें या जॉइन करें

लॉगइन करें  या   जॉइन करें
  • अभी कोई कमेन्ट नहीं किया गया है!