कामवासना डॉट नेट

-Advertisement-

लंबी कहानी को बिना स्क्रॉल किए पढ़ने के लिए प्ले स्टोर से Easy Scroll एप डाउनलोड करें।

  

 

 

कमसीन बहन की चुदाई - 4  अब आगे...

 

शाम होते-2 नेहा ने तैयार होना शुरू कर दिया...

सजना संवरना तो उसका फ़ेवरेट काम था

इसलिए अपने कमरे में घुसकर उसने दरवाजा किया अंदर से बंद और शुरू हो गयी शादी में जाने की तैयारियों में.

 

सबसे पहले तो उसने अपने सारे कपड़े निकाल फेंके...

और अपनी बाँहों और पैरों पर वीट क्रीम लगाकर उन्हे चिकना किया...

चेहरे पर भी उसने ढेरो क्रीम लगाई और उसे चमकदार बना दिया...

सुंदर तो वो थी ही, पिंक लिपस्टिक और उसी रंग की छोटी सी बिंदी लगाकर उसका चेहरा राजकुमारियों की तरह खिल उठा...

बालों की भी उसने अच्छे से प्रेस्सिंग की..

कुल मिलाकर नहा धोकर जब वो आईने के सामने आकर नंगी खड़ी हुई तो खुद को देखकर उसे खुद पर ही ढेर सारा प्यार आ गया...

 

उसने सोचा की काश इस वक़्त उसका भाई वहां होता तो उसे इस रूप में देखकर क्या हाल होता उसका...

अपने हुस्न पर इतराते हुए उसने घूम-घूमकर अपने जिस्म के हर अंग को अच्छे से देखा और हर बार उसकी आँखो की चमक बढ़ती ही चली गयी.

 

फिर उसने अपना फ़ेवरेट पिंक कलर का सूट निकाला जो उसे आज शादी में पहन कर जाना था...

इसका गला काफ़ी डीप था, जिसमे से उसकी नन्ही ब्रेस्ट का उभार सॉफ दिखाई देता था...

पर उस उभार को दिखाने के लिए वो उसे बिना ब्रा के ही पहनटी थी..

और ब्रा से तो वैसे भी नेहा को एलेर्जी थी..

इसलिए अक्सर स्कूल में भी वो बिना ब्रा के ही जाया करती थी.

 

पूरी तैयार होकर जब वो कमरे से बाहर निकली तो विक्की सामने ही दिख गया, उसकी आँखे एक पल के लिए फटी रह गयी...

इतना सैक्सी कोई कैसे हो सकता है यार....

और वो भी उसकी बहन...

पर जो भी था, उसके लंड ने खड़े होकर सलामी ठोकी नेहा के हुस्न को, जिसे नेहा ने सॉफ महसूस किया

 

वो मुस्कुराती हुई उसकी बगल से निकलकर अपनी माँ की तरफ चल दी...

जाते-2 उसने अपने नाज़ुक हाथों से उसके लंड के उभार को भी सहला दिया,

जिसे महसूस करके विक्की की आँखे मुंद सी गयी और उसके मुँह से आह निकल गयी..

 

माँ ने उसे अच्छे से समझाया बुझाया और विक्की को उसे मंजू के घर तक छोड़कर आने को कहा...

 

विक्की : "ठीक है माँ ...और हाँ, मैं भी घर पर बोर नही होना चाहता, मैं अपने दोस्त के घर चला जाऊंगा , वहां हमने घर पर मूवी देखने का प्रोग्राम बनाया है, वो ख़त्म होते ही मैं रात को नेहा को लेकर एक साथ ही वापिस आऊंगा ...''

 

उसकी माँ ने भी कुछ नही कहा...

क्योंकि वो जानती थी की उसे मना करने का कोई फायदा तो है नही...

जो काम उसे करना है वो उसे करके ही रहता है.

 

खैर, नेहा को बाइक पर बिठाकर वो मंजू के घर की तरफ चल दिया...

रास्ते में उसने नेहा को इस बात की भनक भी नही पड़ने दी की वो भी शादी में चुपके से पहुँच जाएगा, क्योंकि ऐसा करने के लिए मंजू ने ही उसे माना किया था

शायद नेहा के लिए वो विक्की के रूप में एक सर्प्राइज़ रखना चाहती थी...

 

मन तो नेहा का बहुत कर रहा था इस वक़्त की विक्की को कसकर दबोच ले..

उसे रास्ते में रोककर अच्छे से स्मूच करे पर शादी के कपड़े और मेकअप को वो खराब नही करना चाहती थी...

पर हाँ ,रात को आने के बाद वो रुकने वाली नही थी...

इसलिए शादी में जाकर क्या-2 करना है और वापिस आकर विक्की के रूम में जाकर क्या करना है ये सब सोचते हुए वो आख़िरकार मंजू के घर पहुँच ही गयी...

 

मंजू और उसके मम्मी पापा पहले से ही तैयार थे,

वो सब उनकी कार में बैठकर शादी वाली जगह की तरफ चल दिए..

और विक्की भी बीच के थोड़े बहुत टाइम को काटने के लिए अपने एक दोस्त के घर चला गया..

 

शादी में पहुँचकर दोनो सहेलिया अपने में मस्त हो गयी और मंजू के माँ बाप अपने रिश्तेदारों में ...

 

बारात आ चुकी थी, और उन दोनों को काफी भूख भी लगी थी इसलिए नेहा और मंजू ने जमकर स्नैक्स खाए...

और फिर DJ पर भी खूब डांस किया...

डांस करते हुए बरातीयों के साथ आए कुछ छिछोरे लड़के उनके पीछे ही पड़ गये...

पर उनसे पीछे छुड़वाने के बजाये उन्होंने भी जमकर उनसे मज़े लिए ,

कोई उनकी कमर पे तो कोई नितंबो पर हाथ मारकर दोनो के अंदर की आग को बड़ा रहा था,

शादी की भीड़-भाड़ में कोई ये सब बाते ज़्यादा नोट नही करता, इसलिए उन्हे भी भीड़ में ऐसा करवाने में कोई परेशानी नही हो रही थी...

पर उनके हर टच के साथ दोनो के शरीर मे एक अजीब तरह की आग भी लगती जा रही थी..

मस्ती का माहौल भी बन रहा था...

कुछ देर बाद तो नेहा ने भी अपनी तरफ से रिस्पॉन्ड करना शुरू कर दिया उन लड़को को...

और अंदर ही अंदर एक इच्छा ने भी जन्म ले लिया की काश इनमे से कोई स्मार्ट सा लड़का उसके फूल जैसे जिस्म को रगड़ डाले..

 

वहीं दूसरी तरफ मंजू भी नेहा के बदलते बर्ताव को देखकर मंद-2 मुस्कुरा रही थी...

वो अपनी बचपन की सहेली को अच्छे से जानती थी,

विक्की से खुलने के बाद उसमें काफ़ी बदलाव आ चुका था...

अब वो बाहर के लड़को के साथ भी खुलकर मज़े लेने के मूड में थी...

उनमे से एक लड़का ख़ासकर नेहा के पीछे ही पड़ा हुआ था...

उसी ने अभी तक उसके नितंबो और कमर पर हाथ लगाकर सबसे ज्यादा उसे अच्छे से महसूस किया था...

नेहा भी उसके स्पर्श को एंजाय कर रही थी...

वो तो चाह रही थी की वो लड़का उसके मुम्मो को पकड़कर मसल डाले पर इतने लोगो के सामने ये काम थोड़ा मुश्किल था...

 

खैर, नाच गाने से निपटकर जब थक हारकर वो दोनो एक कोने में बैठी थी तो मंजू ने नेहा से पूछा : "क्या बात है नेहा डार्लिंग, आज कुछ ज़्यादा ही जलवे बिखेर रही है...''

 

नेहा ने मुस्कुराते हुए कहा : ''आज बड़े दिनों बाद ये माहौल मिला है, ऐसे में जलवे बिखेरना तो बनता ही है ना...''

 

ऐसा कहते हुए उसने एक आँख मार दी उसे...

फिर उसकी नज़रें उसी लड़के को ढूँढने लगी, पर वो कही नही दिखा...

उन दोनो के अंदर एक आग लगाकर वो छिछोरे लड़को की टोली गायब हो चुकी थी..

और शादी के मौके पर ऐसे गायब होने का सिर्फ़ एक ही मतलब होता है, दारू पीना..

वो सब भी इकट्ठे होकर बाहर खड़ी गाडियों में जाम छलका रहे थे..

 

नेहा : "क्या यार...अक्चा भला मूड बनाकर साले गायब हो गये.....आज की शाम लगता है बकवास जाने वाली है...''

 

मंजू ने उसके कान के पास होंठ लाते हुए कहा : "मेरे होते चिंता करने की क्या ज़रूरत है मेरी जान....चल मेरे साथ...मैंने एक लड़के को पटा लिया है मजे लेने के लिए ''

 

इतना कहकर वो उसका हाथ पकड़कर टेंट के पीछे वाले हिस्से की तरफ चल दी...

मंजू के मम्मी पापा अपने रिश्तेदारों में मस्त थे ,

उन्हे मंजू और नेहा की कोई फ़िक्र नही थी,

वो जानते थे की दोनो आपस में मस्त होंगी...

 

बेचारे ये नही जानते थे की मस्त होने के साथ-2 मस्ती लेने भी चल पड़ी है दोनो...

 

मंजू ने अपना फोन निकाला और विक्की को फोन मिलाकर सीधा एक ही सवाल पूछा : "कहाँ हो...''

 

विक्की : "और कहाँ ...वहीं टेंट के पीछे....आधे घंटे से खड़ा हूँ ...''

 

मंजू ने मुस्कुराते हुए कहा : "सब्र करो...सब्र का फल मीठा होता है...''

 

इतना कहकर वो मुस्कुराते हुए नेहा का हाथ पकड़कर चल दी...

 

नेहा : "तू तो बड़ी चालू निकली साली....मैं नाचती रह गयी और तूने अपना बंदा सेट कर लिया...शाबाश मेरी जान ....अब तो सब्र नही हो पा रहा मुझसे....इस वक़्त कोई ना मिला ना तो उस हलवाई के सामने ही नंगी हो जाउंगी मैं ....''

 

टेंट के पीछे बैठा मोटा हलवाई भी उन दोनो के हुस्न को देखकर अपने भद्दे होंठों पर जीभ फेर रहा था....

उसे पता होता की उसकी ही बात कर रही है नेहा तो पूडी तलना छोड़कर उसके पीछे ही हो लेता वो भी..

 

हलवाई के छोटे टेंट को पार करके वो दोनो पिछली तरफ आ गये....

ये एक बड़ा सा ग्राउंड था, जिसके आधे हिस्से पर ही ये सब कार्यकर्म हो रहा था...

बाकी का हिस्सा सुनसान सा पड़ा था...

दूर अंधेरे में विक्की एक पेड़ के नीचे पड़ी बेंच पर बैठा उनका इंतजार कर रहा था...

उन्हें आता देखकर वो खड़ा हो गया

 

नेहा की आँखे चमक उठी उस नौजवान को देखकर...

उसकी हाइट और बॉडी दूर से देखकर ही उसकी चूत में पानी आ गया.....

अब ऐसा भी नही था की उसे चूत मरवाने की आग लगी हुई थी...

वो तो वैसे भी उसने अपने भाई के लिए ही रख छोड़ी थी,

पर आज के माहौल में जिस तरह से उसके जिस्म को रगड़ा गया था,

कम से कम उस खुजली को शांत करना तो बनता ही था,

और वो खुजली तो स्मूच और मुम्मे चुसवाने से ही दूर हो सकती थी...

एक अलग ही रोमांच का अनुभव कर रही थी नेहा...

इन्फेक्ट मंजू भी काफ़ी रोमांचित हो रही थी ऐसी स्थिति में नेहा और विक्की को मिलवाकर...

अब जो भी होने वाला था उसमे उन दोनो भाई बहन को तो मज़ा आने ही वाला था,

साथ ही साथ वो भी जानती थी की उसे बीच में कैसे मज़े लेने है...

 

अपनी प्लानिंग और अक्लमंदी पर मुस्कुराते हुए उसने नेहा से कहा : "देख....ये लड़का हमे दूर से देख रहा था, हमारी तरफ का ही है...इसलिए शरमा रहा है, वो सिर्फ़ एक ही शर्त पर यहां पीछे आने को तैयार हुआ है की जो भी होगा, अंधेरे में ही होगा...ताकि बाद में उसके लिए कोई प्राब्लम ना हो...''

 

नेहा : "अरे साला ...ये तो लड़कियो से भी ज़्यादा शरमाता है....जब इतना शरमा रहा है तो करेगा कैसे...हे हे''

 

पर नेहा को इस वक़्त उसके इस अनोखे व्यवहार से ज़्यादा अपने बदन की गर्मी की पड़ी थी....

इसलिए मंजू की बात में हाँ मिलाकर वो उसकी तरफ चल दी...

 

अब असली खेल शुरू होने वाला था....

जिसका विक्की धड़कते दिल से इंतजार कर रहा था.

 

विक्की तक जाते हुए नेहा के दिल की धड़कन तेज होने लगी....

उसके निप्पल कड़क होकर अलग से चमकने लगे...

उसकी जाँघो के बीच गीलापन आ गया.

 

मन ही मन वो सोच रही थी की आज उसकी जवानी को उसके भाई के अलावा कोई दूसरा हाथ लगाएगा...

विक्की भी धड़कते दिल और खड़े लंड के साथ अपनी बहन को अपनी तरफ आते देखकर कुलबुला रहा था...

हालाँकि वो अच्छी तरह जानता था की घर में वो नेहा से ज़्यादा अच्छी तरह से मज़े ले सकता है

पर इस स्थिति में एक अलग ही तरह का रोमांच था..

साथ ही उसने आज सोच लिया था की वो एक साथ दोनो से मज़े लेगा..

 

वो उसके करीब पहुँची तो चाहकर भी विक्की का चेहरा ठीक से देख नही पाई,

घुप्प अंधेरा था वहाँ, उपर से वो जिस पेड़ के नीचे खड़ा था वो भी काफ़ी घना था, इसलिए सिर्फ़ नेहा उसके शरीर को महसूस कर सकती थी, देख नही पा रही थी..

वैसे भी इस वक़्त नेहा के अंदर इतनी चुदासी भरी पड़ी थी की उसे उसकी शक्ल से ज़्यादा उसका लंड देखने की पड़ी थी...

 

एक अजीब सी शांति छा गयी जब तीनो एक दूसरे के सामने पहुँचे तो...

मंजू ने विक्की को कुछ भी बोलने से मना किया था क्योंकि उसकी आवाज़ से उनका भांडा फूट जाता..

 

चुप्पी को तोड़ते हुए मंजू ने कहा : "अर्रे यार, ऐसे ही खड़े रहना है तो अंदर ही चलते है ना...जल्दी करो जो भी करना है, ऐसा ना हो की कोई आ जाए...''

 

ये सुनते ही विक्की के हाथ हरकत में आ गये, वो हाथ बढ़ाकर नेहा के मुम्मे पकड़ने ही वाला था की उससे पहले ही नेहा के हाथ सीधा उसके लंड पर पहुँच गये...

विक्की ने तो सोचा भी नही था की उसकी शरीफ सी दिखने वाली बहन ऐसी हरकत या पहल कर सकती है...

वो जीन्स में फँसे उसके लंड को अच्छे से सहला रही थी,

एक अलग ही टीला सा बना हुआ था विक्की की पेंट में,

नेहा ने सिसकारी मारते हुए अपने शरीर को विक्की से सटाया और अपनी नन्ही बूबियां उसकी छाती पर रखकर ज़ोर से मसल डाली....

अब विक्की के लिए भी रुकना मुश्किल था...

उसने अपने दोनो हाथो मे उसकी चुचियों को पकड़ा और अपना मुँह नीचे करते हुए उसके लरजते हुए होंठों पर अपने होंठ रखकर उन्हे चूस डाला...

 

एक बिजली सी कड़क गयी जब दोनो के गीले होंठ मिले तो....

हालाँकि ये पहली बार नही था जब दोनो भाई बहन एक दूसरे को चूम रहे थे, विक्की को तो पता था की वो नेहा को ही चूम रहा है, पर नेहा को दूर - 2 तक अंदाज़ा भी नही था की वो उसका खुद का भाई है जिसके साथ वो इस रोमांचक पल में मज़े ले रही है...

 

नेहा ने फड़फड़ाते हाथों से विक्की की जीन्स खोल डाली और उसके कबूतर को बाहर निकाल लिया....

लंड के बाहर आते ही एक अजीब सा नशा फैल गया हवा में....

नेहा की बेसब्री का आलम ये था की उसने अपनी स्मूच तोड़ते हुए नीचे फिसलना शुरू कर दिया और अपने पंजो पर बैठकर अपने भाई के लंड को एक ही बार में निगल गयी....

 

विक्की ने बड़ी मुश्किल से अपने मुँह से आआआआआहह की आवाज़ को निकलने से बचाया..

बाकी का काम मंजू ने आसान कर दिया,

वो लपक कर आगे आई और उसने अपने होंठ विक्की के होंठो पर रखकर उन्हे चूसने लगी...

 

उपर के होंठो पर मंजू के होंठ, नीचे लंड पर नेहा के होंठ, दो लड़कियो को ऐसे चूसने का मौका मिल जाए तो दुनिया के किसी भी मर्द को अपने आप पर गर्व होने लगेगा...

 

मंजू ने अपने सूट को उपर करके उसे उतार कर साइड के बेंच पर रख दिया,

ब्रा भी उसने एक ही झटके में खिसका कर अपने स्तनो से ऊपर खींच दी,

अब वो विक्की के सामने टॉपलेस होकर खड़ी थी,

विक्की ने भी देर नही लगाई और उसके मदमस्त मुम्मो को एक-2 करके चूसने लगा...

 

 

 

नीचे नेहा ने भी कोहराम मचा रखा था,

उसे ये तो एहसास हो चुका था की इस लड़के का लंड भी उसके भाई जितना ही है,

पर अभी भी दूर -2 तक उसके अलावा उसे कुछ और पता नही चल पा रहा था,

वो तो बस मस्त होकर विक्की के लंड की बिन बजाने में लगी हुई थी...

 

 

 

कुछ देर बाद दोनो ने अपनी जगह चेंज कर ली, नेहा उपर आ गयी और मंजू नीचे चली गयी...

 

विक्की के होंठो को चूसते हुए कुछ देर के लिए तो उसे लगा की ये होंठ वो पहले भी चूस चुकी है,

पर सैक्स की ठरक इतनी चढ़ी हुई थी उसपर की उसका दिमाग़ काम ही नही कर रहा था....

विक्की ने उसके सूट की कमीज़ भी उतार डाली, अब वो भी मंजू की तरह उपर से नंगी थी...

 

मंजू भी उसका लंड चूसने के बाद उपर आई और फिर वो दोनो मिलकर विक्की को बारी-2 से स्मूच करने लगी...

विक्की के दोनो हाथ में उन दोनों की रेशमी गांड थी जिसे वो जी भरकर दबा रहा था...

 

नेहा के मन में अंतर्द्वंद चल रहा था....

काश वो अपने भाई से पहले चुदवा चुकी होती तो आज ऐसे सुनहेरे मौके को हाथ से ना जाने देती....

वो अभी के अभी अपनी सलवार नीचे करती और घोड़ी बनकर उसके लंड को अपनी चूत में ले लेती...

पर अपना कुँवारापन उसे अपने भाई के नाम करना था, इसलिए उसने बड़ी मुश्किल से अपने जज्बातों पर काबू पाया...

 

वहीं दूसरी तरफ मंजू की चूत भी बुरी तरह से पनिया चुकी थी....

चाह तो वो भी रही थी की उसकी चूत का उद्घाटन आज ही हो जाए पर इस तरह से जल्दबाज़ी वाली चुदाई करवाना उसे भी पसंद नही आ रहा था...

अपनी पहली चूत चुदाई के लिए उसने काई सपने संजो रखे थे, जहाँ वो और विक्की हो होंगे, रोमांटिक सा माहौल होगा, गद्देदार बिस्तर होगा जिसपर बिछकर वो चुदाई के भरपूर मज़े ले सकेगी...

 

पर अभी के लिए तो कुछ ना कुछ करना ही था, और उसके लिए उन दोनो को ही अपने नाड़े खोलने की ज़रूरत थी....

मंजू ने पहले खुद का और फिर नेहा की पायजामी का भी नाड़ा खोलकर उसे घुटनो तक खिसका दिया और फिर दोनो ने एक-2 करके अपनी नंगी चूत और गांड को अच्छी तरह विक्की के खड़े लंड पर रगड़ा...

 

और फिर विक्की की जाँघो पर अपनी-2 गांड टीका कर उन दोनो ने विक्की के हाथो को अपनी चुतों पर रख लिया, विक्की का लंड इस वक़्त उन दोनो की कमर के बीचो बीच फँसा हुआ था, जिसपर दोनो की गांड का साइड वाला हिस्सा दबाव बनाकर उसे अलग सा एहसास दे रहा था....

इधर विक्की के हाथ हरकत में आए और उधर उसका लंड ....

वो अपनी कमर आगे पीछे करके अपने फँसे हुए लंड से उनकी कमर की चुदाई करने लगा...

और खुद उनकी चुतों में उंगली डालकर उनके दाने को रगड़कर उन्हे रोमांच के आख़िरी पड़ाव तक ले जाने लगा...

बीच-2 में वो अपने हाथ उपर करके उनकी चुचियों से भी खेलता और फिर से हाथ नीचे करके उनकी रसीली चूत में उंगली डालकर उसे चोदने लगता...

 

तीनो एक ही लय में आहें भरते हुए अपने-2 ऑर्गॅज़म के करीब पहुँचने लगे और अंत में एक साथ ही उन सबके अंदर का रस निकलकर बाहर आ गया....

विक्की के दोनो हाथ खीर से भर गये...

और उन दोनो की कमर पर ढेर सारी मायोनिज़ फैल गयी...

 

विक्की ने हाथ उपर किए और अपने गीले हाथ उनके चेहरो के करीब लाया, नेहा की चूत की मलाई उसने मंजू को खिलाई और मंजू की चूत का रस उसने नेहा के मुँह में डाल दिया, फिर दोनो ने मिलकर अपनी कमर पर फैली रसमलाई इकट्ठा की और उसे उंगलियों से चाट-चाटकार खाया....

 

अब विक्की का काम ख़त्म हो चुका था,

उसे तो अब भी विश्वास नही हो रहा था की नेहा ने उसे अभी तक नही पहचाना,

और वो आगे भी ना पहचाने इसलिए उसने जल्दी-2 अपने कपड़े पहने और उनके होश में आने से पहले ही वहां से रफू चक्कर हो गया..

 

कुछ देर बाद जब दोनो ने अपनी बोझिल आँखो से आस पास देखा तो विक्की वहाँ नही था,

मंजू ने जल्दी-2 अपने कपड़े पहने, नेहा को भी पहनाए और फिर जिस रास्ते से वो दोनो आए थे, वहीं से होते हुए वापिस अंदर पांडाल की तरफ़ चल दिए,

पहले बाहर बने लेडीज़ बाथरूम में उन्होने अपना हुलिया ठीक किया और फिर चुपके से अंदर जाकर बारात की भीड़ में मिल गये...

किसी को कुछ भी पता नही चला.

 

कुछ देर बाद दोनो ने खाना खाया और फिर मंजू के मॉम-डेड के साथ वो लोग वापिस आ गये...

वहां पहुँचने से पहले ही नेहा ने विक्की को फोन कर दिया था ताकि वो उसे घर ले जा सके..

 

घर जाते हुए वो आज काफ़ी खुश थी,

अपनी लाइफ का ये एडवेंचरस सैक्स एक्सपीरियन्स उसे काफ़ी पसंद आया था...

पर इस अधूरे खेल को अब वो पूरा करना चाहती थी,

उसने सोच लिया था की आज किसी भी हालत में वो विक्की के लंड को अपनी चूत में लेकर रहेगी...

इसलिए घर जाते हुए वो उसे कस कर पकड़े बैठी थी,

और रह रहकर उसका हाथ उसके कड़क होते लंड पर जा रहा था...

आज वो अपने भाई का शिकार करने के पूरे मूड में थी.

 

 

कहानी आगे जारी रहेगी...

कमसीन बहन की चुदाई - 6

संबधित कहानियां
भाई के साथ चुदाई की पढ़ाई करती हुई एक बहन
भाई के साथ चुदाई की पढ़ाई करती...
मौसी की लड़की की ताबड़तोड़ चुदाई
मौसी की लड़की की ताबड़तोड़ चुदाई
मॉडर्न जमाने की बहन
मॉडर्न जमाने की बहन

कमेंट्स


कमेन्ट करने के लिए लॉगइन करें या जॉइन करें

लॉगइन करें  या   जॉइन करें
  • अभी कोई कमेन्ट नहीं किया गया है!