कामवासना डॉट नेट

-Advertisement-

दोस्त की माँ को उसी के घर पर देखिए कैसे चोदा 
@Kamvasna 04 मई, 2023 3438

लंबी कहानी को बिना स्क्रॉल किए पढ़ने के लिए प्ले स्टोर से Easy Scroll एप डाउनलोड करें।
मेरा एक दोस्त है। असल मैं वो गांडु है। उसकी गाँड मैं भी काफी बार मार चुका हूँ। एक दिन मैं उसके घर पर गया तो उसकी माँ को देखता ही रह गया। फिर मैंने उस दिन जब उस दोस्त की गाँड मारी तो मेरी मुँह से उसकी माँ का ही नाम ही निकल रहा था। फिर मैंने उसके सामने ही उसकी माँ का नाम मेरे लंड पर लिखकर जोर जोर से अपना लंड हिलाने लगा और फिर मैं झड़ गया। फिर मैंने उससे अपनी माँ के बारे मे बताने के लिए कहा तो वो बताने लगा। फिर उसने बताया के उसके पापा उसकी माँ को खुश नहीं रखते है तो वो अक्सर उंगली करती है। बस इतना जानना मेरे लिए काफी था। फिर मैं अगले दिन उसके घर गया तो मेरा दोस्त तो घर पर नहीं था। बस उसकी माँ ही थी। उसकी माँ काम रही थी। फिर मैं उससे बात करने लगा। मुझसे रहा नहीं जा रहा था तो फिर मैं उसके सामने ही अपना लंड बाहर निकालकर हिलाने लगा। मेरा लंड देखकर वो देखती ही रह गई। फिर मैं उसके पास गया और अपना लंड उसके हाथ मैं दे दिया। मेरा लंड अपने हाथ मे पाकर वो उसे हिलाने लगी। फिर मैं उसे उठाकर अंदर कमरे मे ले गया और नंगी कर दिया। फिर मैं उसके बदन को चूमने लगा तो वो गरम हो गई। फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और सीधा लंड उसकी गाँड में उतार दिया। उसे काफी दर्द हुआ पर मैं रुका नहीं और करता रहा। फिर मैं झड़ने वाला हुआ तो मैं उसकी चुत मारने लगा और अपना पानी उसकी चुत में डाल दिया। फिर मैं पीछे से साइड हुआ तो उसकी चुत से मेरा पानी टपक रहा था। फिर वो बोली आज तो बहुत मजा आया। फिर तभी वहाँ मेरा दोस्त आ गया और उसने जब अपनी माँ की चुत से मेरा पानी बाहर आते देखा तो वो मेरी तरफ देखकर मुस्कुराने लगा। फिर उसने अपने बेटे को देखा तो वो अपने बदन को ढकने लगी। फिर मैंने उसे रोक दिया और अपनी गोद में बैठाकर उसके बोबे दबाने लगा और फिर उसे उसके बेटे के बारे में बताया तो उसे यकीन नहीं हुआ। फिर मैंने मेरे दोस्त से नंगा होकर मेरे पास आने के लिए कहा। तो दोस्त ने वैसे ही किया। फिर वो मेरे पास आया तो मैंने उसे झुकाकर खड़ा कर लिया और उसकी गाँड खोलकर दिखाई तो वो काफी चौड़ी हो चुकी थी। फिर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था तो मैंने लंड उसकी गाँड में डाल दिया। उसकी माँ पास खड़ी खड़ी अपने बेटे की गाँड में मेरा लंड अंदर बाहर होता हुआ देखती रही। फिर मैंने दोस्त की गाँड से लंड बाहर निकाला और दोस्त की माँ की गाँड में डाल दिया। इस प्रकार मैं शाम तक उन दोनों की गाँड मारता रहा। 
 

 

संबधित कहानियां
विधवा मम्मी ने अपने बेटे से चुदकर अपनी प्यास बुझाई
विधवा मम्मी ने अपने बेटे से चुदकर...
जिसकी मम्मी ऐसी हो उसे और क्या चाहिए
जिसकी मम्मी ऐसी हो उसे और क्या...
मम्मी पोंछा लगा रही थी तो बेटे ने ये कर दिया
मम्मी पोंछा लगा रही थी तो बेटे...

कमेंट्स


कमेन्ट करने के लिए लॉगइन करें या जॉइन करें

लॉगइन करें  या   जॉइन करें
  • अभी कोई कमेन्ट नहीं किया गया है!