भाभी : दोस्ती, प्यार और चुदाई (भाग - 1)(भाग - 2)(भाग - 3)(भाग - 4)(भाग - 5)(भाग - 6)

फिर मम्मी बोली के हां सही कहा। फिर मम्मी ने आंटी से पूछा के तुम्हारा सुबह सुबह कैसे आना हुआ। फिर आंटी ने बताया के चीनी लेने आई थी। चीनी खत्म हो गई थी और सुबह सुबह दुकाने भी नहीं खुलती हैं। फिर वो गुस्सा करने लगे तो मैं बोली के मैं लाती हूँ अभी चीनी। फिर मम्मी ने उसे चीनी डालकर दे दी तो वो चली गई और फिर हमने गेट बंद कर दिया। फिर मम्मी नंगी होकर सब समान सही करने लगी और फिर कमरे में से अपनी लैट्रिन उठाई और फिर गद्दे वगेरह को बाहर लाकर सुखाया। फिर मम्मी बोली के झाड़ू भी लगा देती हूँ। फिर मम्मी ने अंदर तो झाड़ू लगा दी और फिर बाहर झाड़ू लगानी थी तो मम्मी बोली के ऐसे ही जाकर लगा आऊं क्या। कौन देखेगा। नहीं तो मुझे कपड़े पहनने पड़ेंगे और फिर खोलने पड़ेंगे। फिर मैं बोला के ऐसे ही लगा आओ। फिर मम्मी ने गेट खोला और फिर नंगी ही जाकर बाहर झाड़ू लगाने लगी। तब टाइम 8 से ऊपर हो चुका था और लोग भी आने जाने लगे थे। फिर मम्मी जल्दी से झाड़ू लगाकर आ गई और फिर हँसने लगी। फिर मैंने मम्मी को पकड़ लिया और किस करने लगा। फिर मैं मम्मी को घोड़ी बनाकर गाँड मारने लगा और फिर सीधी करके मम्मी की चुत में करने लगा और चुत में ही झड़ गया। फिर हम दोनों शांत हो गए और फिर मम्मी उठकर खाना बनाने की तैयारी करने लगी। मम्मी की चुत से मेरा पानी बह रहा था। पर मम्मी ने साफ नहीं किया। मम्मी को अच्छा लग रहा था। 


फिर मम्मी आटा गूंथने लगी तो पानी की जगह अपने पेशाब ही डालकर आटा गूंथने लगी। फिर इतने मैं वो आंटी आ गई तो फिर मैंने मम्मी की तरफ देखा तो फिर मम्मी ने गेट खोलने का इशारा किया तो फिर मैं लुंगी लपेटकर गेट खोलने चला गया और फिर आंटी अंदर आई तो हाथ मे चीनी थी। फिर मम्मी चूल्हे के पास से उठकर आ गई और फिर आंटी ने चीनी मम्मी को दी और फिर मम्मी ने चीनी किचन में रख दी और फिर वो दोनों आकर आंगन में बैठ कर बातें करने लगी। फिर मैं भी उनके पास ही बैठ गया। फिर आंटी ने जब मम्मी की चुत से सफेद पानी निकलते देखा तो फिर मम्मी अपने पैर खोलकर अपने हाथ से अपनी चुत चौड़ी करके दिखाने लगी और फिर एक उंगली से पानी पोंछ लिया लेकिन फिर पानी आ गया। फिर मम्मी कहने लगी के पता नहीं क्या हो गया हैं। अभी कुछ दिनों से ही आने लगा है। फिर आंटी बोली के डॉक्टर को दिखाया था। फिर मम्मी बोली के हां ये मेडिकल से दवाई लेकर आया था। फिर मम्मी बोली के मैं क्या करूँ। पहले बवासीर हुई तो वहां इससे दवाई लगवाती हूँ और अब यहां भी पता नहीं क्या हो गया तो अब यहां भी यही दवाई लगाता हैं और मेरे बदन की मालिश तो करता ही करता हैं। जो काम इसके पापा को करने चाहिए थे वो काम ये कर रहा हैं। फिर आंटी बोली के फिर क्या हुआ तो तुम माँ बेटे हो तो एक दूसरे से क्या शर्म करनी। फिर मम्मी बोली के हां ये तो हैं ही। फिर मम्मी ने मुझे अपने पास बुलाया और फिर मेरे से गले लग कर आंटी से कहने लगी के मैंने तो अब अपने आपको इसे सौंप दिया हैं। 


फिर आंटी बोली के तुम्हारी माँ नंगी रहती हैं तो तुम नंगे नहीं रहते। फिर मम्मी बोली के रहता हैं। ये तो तुम्हारे सामने लुंगी पहन रखी हैं। फिर ये सुनकर आंटी बोली के फिर क्या शर्म हैं तो। फिर मम्मी बोली के मैंने तो इससे कह दिया हैं के मेरी सेवा चाहे तो अपनी बीवी समझकर कर दे या माँ। ये तो अपने घर की ही बात हैं। ये सुनकर आंटी हँसने लगी और बोली के हां सही बात हैं और घर की बात घर मे ही रहेगी। फिर मैं और मम्मी हँसने लगे। फिर मम्मी ने मुझे अपनी गोद मे सुला लिया और अपना एक बूब मेरे मुँह में दिया तो मैं चुसने लगा। फिर मम्मी बोली के मेरी इतनी सेवा करता हैं तो इसका भी तो हक बनता हैं। फिर आंटी बोली के हाँ ये तो हैं ही। फिर मैं मम्मी का बूब चुसने लगा और दूसरे हाथ से दूसरे बूब को सहलाने लगा। मम्मी और आंटी बातें करती रही और मैं मम्मी के बोबे सहलाता रहा। फिर कुछ देर बाद आंटी चली जाने लगी तो फिर मम्मी आंटी को छोड़ने गेट तक गई और गेट खोलकर गेट में ही खड़ी रही नंगी। फिर आंटी चली गई तो फिर मैं मम्मी से बोला के मम्मी ये किसी को बता ना दे। फिर मम्मी बोली के ये बताएगी तो सिर्फ मेरी बीमारी के बारे में बताएगी और फिर इतना ही कहेगी के उसका बेटा उसकी सेवा करता हैं। इससे फालतू कुछ नहीं बोलेगी किसी को। मुझे पूरा विश्वास हैं। फिर मैं बोला के ठीक हैं अगर तुम्हें विश्वास हैं तो। फिर मैं मम्मी के सामने अपना लंड हिलाता हुआ बोला के आह राधा रानी बहुत मन कर रहा हैं तो मम्मी हँसकर बोली के चलो। फिर मैं मम्मी की फिर चुदाई करने लगा। हम दोपहर तक करते रहे। फिर मम्मी ने खाना बनाया और फिर हमने खाया। फिर मैं मम्मी को छत पर ले गया और घोड़ी बनाकर चुदाई करने लगा। घर के पास मैदान था तो उसमें काफी लोग खड़े थे और कुछ न कुछ खेल रहे थे और इधर मैं मम्मी की चुदाई कर रहा था। फिर हम खड़े हो गए और मैं मम्मी के पीछे आकर मम्मी के बदन को सहलाने लगा। हम कई देर ऐसे खड़े रहे और फिर नीचे आ गए। नीचे आकर मम्मी काम करने लगी और मैं मार्केट चला गया। फिर मैंने मेडिकल से गर्भ निरोधक गोली ली और फिर मैंने भाभी को फोन किया और उन्हें सब कुछ बताया। तो भी काफी खुश हुई। फिर भाभी बोली के तुमने तो मेरी सास को मेरी देवरानी बना दिया। फिर मैं और भाभी हँसने लगे। फिर भाभी बोली के अब कुछ महीने तुम दोनों अकेले ही रहोगे तो जमकर मजे करना। फिर मैं बोला के हां भाभी वो तो करेंगे ही। फिर बात करके मैं घर आ गया और फिर खाना खाकर मैं और मम्मी रजाई में चले गए और करने लगे। मम्मी को अब दर्द वगेरह कुछ नहीं हो रहा था तो मम्मी मजे से चुदवा रही थी। एक राउंड के बाद थोड़ा रुक जाते और फिर दोबारा शुरू हो जाते और कभी तो दो राउंड साथ ही हो जाते। फिर जब थक जाते तो सो जाते और फिर सुबह उठकर दिन की शुरुआत चुदाई से ही करते फिर ही हम कोई दूसरा काम करते। 


फिर अगले दिन सुबह उठे और फिर मम्मी झाड़ू लेकर सफाई करने लगी। मम्मी के एक हाथ मे झाड़ू और दूसरा हाथ अपनी चुत पर था। फिर मम्मी अपनी चुत सहलाती हुई बाहर जाने लगी तो जाते जाते मम्मी ने मेरी तरफ देखा तो मैं भी मम्मी की तरफ देखने लगा। हम एक दूसरे को कुछ देर देखते रहे और साथ मे मैं अपना लंड सहला रहा था और मम्मी अपनी चुत। फिर मम्मी मुस्कुराने लगी और फिर गेट खोलकर बाहर चली गई और झाड़ू लगाने लगी। मैं भी उठकर मम्मी के पीछे चला गया और मम्मी को देखकर लंड सहलाता रहा। फिर मम्मी झाड़ू निकालकर मेरी तरफ पीठ करके खड़ी हो गई तो मैं मम्मी के पीछे गया और अपना लंड मम्मी की गाँड में डाल कर खड़ा हो गया। फिर मम्मी अपनी गाँड आगे पीछे करने लगी। फिर मम्मी के बड़े बदर बोबे सहलाने लगा तो मम्मी ने पीछे गर्दन करके मेरी तरफ देखा और मुस्कुराने लगी। फिर मैं मम्मी से लिप किस करने लगा। हम दोनों माँ बेटे को किसी का डर नहीं था और घर के बाहर नंगे खड़े होकर ये सब कर रहे थे। फिर मैंने मम्मी की गाँड से लंड निकाला और मम्मी को अपनी तरफ घुमाया और फिर मम्मी को अपनी गोद मे उठा लिया और अपना लंड नीचे से मम्मी की चुत में डाल दिया। मम्मी ने झाड़ू वहीं छोड़ दी और अपने हाथ मेरी गर्दन के पास डाल दिए और मम्मी के पैरों को मैंने अपने हाथों से ऊपर उठा रखा था। फिर ऐसे ही उठाये उठाये मैं मम्मी को अंदर कमरे में ले गया और फिर मम्मी की चुदाई करने लगा। तब घर का मैन गेट खुला पड़ा था और कमरे का गेट भी खुला था और पूरा घर मम्मी की सिस्कारियों से गूंज रहा था। मैं और मम्मी काफी देर तक चुदाई करते रहे। फिर मैं मम्मी की चुत में ही झड़ गया। फिर हमने कुछ देर आराम किया। फिर मैंने मम्मी को गर्भ निरोधक टेबलेट दी। जिसे लेकर फिर मम्मी नंगी ही बाहर गई और झाड़ू उठाकर वापिस आ गई और गेट बंद कर दिया। मैं आंगन में बिस्तर बिछाकर लेट गया। फिर मम्मी ने जब सारा काम कर लिया तो फिर मम्मी भी मेरे पास आकर लेट गई और मेरा लंड पकड़कर धीरे धीरे सहलाने लगी। 


फिर मैंने अपने फोन में पोर्न वीडियो चलाकर मम्मी को दिखाने लगे। मैंने मम्मी को काफी तरह की वीडियो दिखाई। जिनमे कई मर्द मिलकर एक औरत को चोद रहे थे। एक और वीडियो जिसमे एक लड़की लोगो के सामने नंगी घूम रही थी। फिर दूसरी वीडियो में तीन मर्द मिलकर एक लड़की की चुदाई कर रहे थे और उन तीनों ने उस लड़की के तीनों छेदों में लंड डाल रखे थे। ये देखकर मम्मी एक हाथ से अपनी चुत और दूसरे हाथ से मेरा लंड सहला रहा थी। फिर एक दूसरी वीडियो में औरत मर्द के ऊपर उसका लंड चुत में लेकर बैठ गई और उछल उछल कर करने लगी। फिर मैंने भी मम्मी को ऐसे ही बैठा लिया तो फिर मम्मी भी ऐसे ही करने लगी। फोन मम्मी के हाथ मे ही था और वो लगातार वो वीडियो देखें जा रही थी। मम्मी उस वीडियो को देखकर अपने हाथ मेरे दोनों और रखकर फिर अपनी गाँड को ऊपर नीचे करके मेरा लंड लेने लगी। फोन मेरी छाती पर पड़ा था और मम्मी लगातार वो वीडियो देखें जा रही थी। फिर कुछ देर बाद मम्मी झड़ गई और मेरे ऊपर ही लेट गई। फिर मम्मी साइड होकर लेट गई और फिर से वीडियो देखने लगी और एक हाथ से अपने बूब को सहलाने लगी। फिर एक वीडियो में एक आदमी का लंड काफी बड़ा था। तो मम्मी मुझे कहने लगी के इसका देख कितना बड़ा हैं। फिर मैं बोला के क्या। फिर मम्मी ने मुस्कुराकर मेरा लंड पकड़ लिया और कहा के ये। फिर मैं बोला के इसका कोई नाम तो होगा। फिर मैंने धीरे से मम्मी के कान में कहा के लंड और फिर पुछा के क्या तो मम्मी ने शर्माकर कहा के लंड। 


फिर मैं बोला के अब बोलो क्या दिखा रही थी। फिर मम्मी बोली के इस आदमी का लंड कितना बड़ा हैं और ये लड़की इसका इतना लंबा लंड अपनी चुत में भी ले रही हैं। मम्मी के मुँह से ये सुनकर मैं गर्म होने लगा। फिर मैं मम्मी से बोला के लंड लंड बोलती रही हो। तो फिर मम्मी लंड लंड कहने लगी। फिर मैं बोला के जोर से बोलो। तो मम्मी जोर से लंड लंड बोलने लगी और साथ मे हँसने लगी। फिर मैंने मम्मी की चुत पर हाथ रखा और सहलाने लगा। फिर मम्मी ने आंखें बंद कर ली और मैंने मम्मी से पुछा के ये क्या हैं तो मम्मी बोली के मेरी चुत। फिर मैंने मम्मी का हाथ अपने लंड पर रखा और पूछा तो बोली के आपका लंड। फिर मैं मम्मी के ऊपर आया और लंड मम्मी की चुत में डालकर करने लगा। फिर मम्मी भी अपनी चुत में मेरा लंड अंदर बाहर होते हुए देखने लगी और अपनी चुत को ऊपर से सहलाने लगी। फिर कुछ देर ऐसे करने के बाद मैं और मम्मी घुटनो के बल खड़े हो गए और फिर मैंने पीछे से मम्मी की गाँड में लंड डाल दिया और अपने दोनों हाथ मम्मी की कमर के चारो तरफ डालकर मम्मी को अपने से कसकर चिपका लिया। जिससे लंड गाँड में पूरा अंदर तक चला गया और फिर ऐसे ही मैं करने लगा। मम्मी की नरम नरम गाँड इतनी मजेदार थी के क्या बताऊँ। मम्मी भी पूरी गर्म हो चुकी थी और एक हाथ से अपनी चुत सहला रही थी और दूसरे से अपने बूब। फिर चुदाई करते टाइम ही मम्मी का पेशाब निकलने लगा तो मम्मी को लेकर बिस्तर के किनारे हो गया तो मम्मी फिर पेशाब करने लगी। फिर मम्मी ने पेशाब कर लिया तो फिर मैं भी झड़ गया और फिर हम अलग होकर लेट गए और हांफने लगे। फिर मम्मी हँसने लगी और अपनी चुत से अपना पेशाब पोंछने लगी। फिर मम्मी मेरे ऊपर आकर उल्टी होकर लेट गई और मैं मम्मी की गाँड सहलाने लगा। हम काफी देर तक ऐसे ही सोये रहे। 


फिर हम खाना खाने जने लगे तो मम्मी की हिलती हुई गाँड देखकर मुझसे रहा नहीं गया तो फिर मैंने मम्मी की गाँड पर जोर से एक थप्पड़ लगा दिया। फिर मम्मी ने पीछे मुड़कर मेरी तरफ देखा और फिर हँसने लगी। फिर हम खाना डालकर बैठ गए खाने के लिए। फिर मेरे दिमाग मे खाना मम्मी की गाँड में डालकर और फिर खाने का विचार आया। फिर मैंने मम्मी को घोड़ी बनने के लिए कहा तो मम्मी बोली के क्यों। फिर मैं बोला के तुम बनो तो सही। फिर मम्मी घोड़ी बन गई और मैं रोटी के टुकड़े तोड़कर उसमें सब्जी लगाकर फिर एक एक करके मम्मी की गाँड में डालने लगा। फिर बीच बीच मे गाँड में लंड डालकर डाली हुआ रोटी को आगे कर देता और फिर डालने लगता। फिर मैं दही भी डालने लगा और फिर लंड डालकर दही आगे करने लगा तो कुछ दही गाँड से बाहर निकलर मेरे लंड के सहारे सहारे नीचे गिरने लगा तो फिर मैंने लंड निकालकर रोटी डाल दी। मैंने मम्मी को बिल्कुल भी जोर लगाने के लिए मना किया था जिससे कि खाना आराम से अंदर चला गया। फिर मैंने सारा खाना अंदर डाल दिया और ऊपर से लंड डालकर अंदर बाहर करने लगा। फिर जब खाना बिल्कुल भी बाहर नहीं आ रहा था तो फिर मैंने मम्मी से बैठने के लिए कहा तो मम्मी बैठ गई। फिर मैंने मम्मी से खड़ी होकर चलने के लिए कहा तो मम्मी खड़ी होकर चलने लगी। लेकिन मम्मी की गाँड से बिल्कुल भी खाना बाहर नहीं निकल रहा था। फिर मैंने मम्मी से पूछा के कैसा लग रहा हैं तो मम्मी बोली के गाँड भारी भारी लग रही हैं पर वैसे ठीक हैं। फिर मैं बोला के बिल्कुल भी जोर मत लगाना तो मम्मी बोली के नहीं लगाउंगी। फिर मैं मम्मी को लेकर छत पर चला गया और हम छत पर इधर उधर घूमने लगे और फिर हमें ज्यादा ही भूख लग गई तो हम नीचे आ गए। फिर मैंने मम्मी की गाँड के नीचे थाली रख दी और फिर मम्मी से जोर लगाकर खाना बाहर निकालने के लिए कहा तो फिर मम्मी ने वैसे ही किया। मम्मी की गाँड से खाना निकलने लगा और फिर मम्मी ने सारा खाना निकाल दिया। फिर मैंने मम्मी की गाँड चाटकर साफ कर दी। जोर लगाते टाइम मम्मी का पेशाब भी निकल गया तो वो भी थाली में मिक्स हो गया। फिर मम्मी और मैंने वो सब खाना मिलाया और फिर खाने लगे। खाना कुछ देर अंदर रहा तो गर्म हो गया था और नरम भी था। फिर हमने वो सब खाना खा लिया। मम्मी को ये तरीका काफी पसंद आया था। फिर मैं मम्मी से बोला के तुम कल सुबह जल्दी खाना बना लेना और फिर गाँड में डाल लेना। फिर हम बाद में ऐसे ही खाएंगे। फिर मम्मी बोली के हां ऐसा ही करूंगी। इसके बाद हम आंगन में बिस्तर पर लेट गए और मम्मी को मैंने फिर से पोर्न वीडियो चलाकर दे दी तो वो देखने लगी और फिर मैं थोड़ी देर सो गया। 


कुछ देर बाद मुझे जाग आई तो देखा के मम्मी नहीं थी पर फोन वहीं पड़ा था। फिर मैंने आवाज लगाई राधा राधा। फिर मम्मी भाभी के कमरे से बोली के आ रही हूँ। फिर कुछ देर बाद मम्मी आई तो मैं मम्मी को देखता ही रह गया। मम्मी ने बाल खुले छोड़ रखे थे। कानों में बड़ी बड़ी बालियां और नाक में नोजरिंग। लिपस्टिक लगा रखी थी और थोड़ा बहुत मेकअप कर रखा था और पैरों में हाई हील सैंडल। फिर मम्मी ने हंसते हुए अपने बाल झटके से आगे की तरफ किए और फिर मेरी तरफ पीठ करके खड़ी हो गई और फिर अपनो कमर और गाँड को लहराने लगी। फिर अपने एक हाथ से अपनी गाँड पर एक थप्पड़ मारा और फिर अपनी गाँड हिलाने लगी। फिर मम्मी वापिस मुड़ी और फिर अपने बोबे हिलाकर दिखाने लगी। फिर मम्मी मेरे पास आई और मेरे ऊपर लंड अपनी चुत में लेकर बैठ गई। फिर मम्मी ने पुछा के कैसी लग रही हूँ तो मैं बोला के एकदम पटाखा लग रही हो तो ये सुनकर मम्मी हँसने लगी और फिर उपर नीचे होने लगी। फिर मम्मी मुझसे लिप किस करने लगी। मम्मी तब काफी सेक्सी लग रही थी। फिर मैं मम्मी को घोड़ी बनाकर करने लगा तो कभी मम्मी की चुत मारता तो कभी गाँड। फिर मैं झड़ गया तो फिर मैं मम्मी से बोला के मेरा मन कर रहा हैं के तुम्हारी चुदाई करता ही रहूँ। फिर मम्मी बोली के अब शाम हो गई हैं। मैं घर का काम कर लेती हूँ। फिर रात को मन करे उतना चोद लेना। फिर मैं मम्मी से बोला के तुम तो काफी जल्दी सीख गई वीडियो देखकर। आज एकदम उनके जैसी ही लग रही हो। फिर मैंने कहा के अब से बस ऐसे ही बनकर रहा करो। फिर मम्मी हँसकर बोली के ठीक हैं। फिर मम्मी काम करने लगी और मैं मम्मी को देखता रहा और अपना लंड सहलाता रहा। फिर मैं ज्यादा गर्म हो गया तो फिर मैं मम्मी के पास गया और मम्मी के मुँह में लंड डाल दिया तो मम्मी चुसनव लगी और फिर मैं तब ही झड़ गया तो मम्मी ने लंड चाटकर साफ कर दिया। 


फिर मम्मी खाना बनाने लगी और फिर हम खाना खाकर कमरे में चले गए। फिर मम्मी वापिस से तैयार हुई। मैं बेड पर लेटा था। फिर मम्मी मेरे पास आई और अपने बोबो के बीच मेरा लंड लेकर सहलाने लगी। फिर मैं बहुत ज्यादा गर्म हो गया तो फिर मैं मम्मी के ऊपर आया और मम्मी के पैर उपर उठाकर चुत मारने लगा। तब मम्मी ने सैंडल पहन ही रखे थे। तब मुझे ऐसी ही फीलिंग आ रही थी जैसे कि मैं किसी पोर्नस्टार को ही चोद रहा हूँ। फिर मैंने मम्मी को घोड़ी बनाया और फिर सिर के बाल पकड़कर जोर जोर से धक्के लगाने लगा। फिर मैं झड़ गया और मम्मी भी कि बार झड़ चुकी थी। फिर मम्मी सीधी होकर लेट गई तो मम्मी के बदन को देखकर मेरा झड़ने के बाद भी मम्मी को चोदने का मन करने लगा। फिर मैं मम्मी के बदन को चूमने लगा। थोड़ी देर बाद चूमा चाटी के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया तो फिर मैं मम्मी की चुत मारने लगा। मम्मी थक गई थी तो वो तो आंखें बंद करके लेटी रही और मैं काफी देर तक मम्मी की चुदाई करता रहा। फिर चुत में झड़ गया और सो गया। 


सुबह उठा तो देखा के मम्मी बिस्तर पर नहीं थी। फिर मैं उठकर बाहर आया तो देखा के मम्मी बाहर झाड़ू निकाल रही थी। फिर मैं जाकर गेट पर खड़ा हो गया और अपना लंड सहलाने लगे। फिर मम्मी ने मुझे देखा तो मेरी तरफ मुस्कुरा दी। फिर मम्मी झाड़ू निकालकर अंदर आने लगी तो मैंने मम्मी को गेट पर ही पकड़ लिया और लिप किस करने लगा। मैं गेट पर खुलेआम ही मम्मी से लिप किस कर रहा था। फिर मैं साथ मे गाँड भी सहलाने लगा। मैंने काफी लंबा लिप किस किया फिर मम्मी को छोड़ा तो मम्मी जोर जोर से सांस लेने लगी और अंदर चली गई। फिर मैं दूध लाने चला गया और फिर आया तो देखा के मम्मी खाना बना रही थी। फिर खाना बनाने के बाद मम्मी घोड़ी बन गई और सारा खाना मैंने मम्मी की गाँड में डाल दिया और फिर मैंने लंड से सारा खाना अंदर तक धकेल दिया। फिर मम्मी खड़ी होकर काम करने लगी और मैं धूप में जाकर थोड़ी एक्सरसाइज करने लगा। फिर हम नहाकर धूप में लेट गए और मैंने मम्मी की मालिश की और फिर हमने चुदाई भी की। चुदाई के बाद हम लेटे रहे और हम पोर्न वीडियो देखने लगे। फिर उस दिन वीडियो मैं मम्मी ने देखा के दो औरत एक दूसरे के बदन से खेल रही हैं और मजे कर रही हैं। वे देखकर मम्मी बोली के औरतें आपस मे ऐसे भी करती हैं क्या। फिर मैं बोला के हाँ मर्द भी करते हैं। फिर मैंने मम्मी को ऐसी वीडियो दिखाई जिसमे दो मर्द एक दूसरे की गाँड मारते हैं। ये देखकर मम्मी हंसते हुए बोली के हाय राम। हमे वीडियो देखते देखते दोपहर हो गई तो फिर मम्मी उठी और थाली लेकर आई और फिर थाली अपनी गाँड के नीचे रखकर मम्मी जोर लगाने लगी और गाँड से खाना बाहर आने लगा। ये देखकर मम्मी हँसने लगी और साथ मे जोर लगाती रही और खाना निकलता रहा। फिर मम्मी ने पूरा खाना निकाल दिया और फिर घोड़ी बन गई। फिर मम्मी पेशाब करने लगी तो मैंने थाली चुत के आगे कर दी और मैं गाँड चाटने लगा। फिर मम्मी का सारा पेशाब थाली में चला गया तो मैंने थाली हटा ली और फिर मम्मी सीधी होकर बैठ गई और फिर हम खाना खाने लगे। मम्मी अपने पेशाब में खाना मिला मिलाकर कर मुझे अपने हाथ से खिलाने लगी। फिर मुझे पेशाब आने लगा तो मैं घुटनो के बल खड़ा हो गया और फिर मम्मी ने मेरा लंड अपने हाथ मे पकड़ लिया और आगे थाली कर दी। फिर मैं पेशाब करने लगा। पेशाब करने के बाद थाली में थोड़ा ही खाना बचा था तो मम्मी उसे मेरे पेशाब के साथ घोलकर पी गई। फिर मम्मी ने थाली वहीं छोड़ दी और फिर मैं मम्मी की चुत मारने लगा। फिर गाँड भी मारी और फिर झड़ गया तो फिर हम लेट गए। फिर शाम तक कभी चुदाई तो कभी पोर्न वीडियो देखते रहे। फिर शाम को खाना खाकर लेट गए। फिर मम्मी बोली के रात को बिस्तर में पेशाब करने से बिस्तर गीला हो जाता हैं और फिर सुबह सुखाना पड़ता हैं। इससे अच्छा पेशाब आये तो हम एक दूसरे के मुँह में ही कर लिया करें। फिर मैं बोला के हां सही कहा। फिर मम्मी को तभी पेशाब आ रहा था तो मम्मी मेरी छाती पर आकर बैठ गई और अपनी चुत को मेरे मुँह पर रख दिया और रुक रुक कर पेशाब करने लगी और मैं पीने लगा। पेशाब करने के बाद मैंने कुछ पेशाब मुँह में ही रखा और फिर उसे मम्मी के मुँह में डाल दिया तो मम्मी पी गई। फिर मम्मी तैयार हुई किसी पोर्नस्टार की तरह। आज मम्मी ने अपने बालों का स्टाइल थोड़ा चेंज किया था जिससे मम्मी और ज्यादा सेक्सी लग रही थी। फिर मैं मम्मी की कसकर चुदाई करने लगा और गाँड मारते टाइम मैंने मम्मी की गाँड पर बहुत थप्पड़ मारे और हर एक थप्पड़ के बाद मम्मी जोर से चिल्लाती और सिस्कारियाँ भरती। जिन्हें सुनकर मैं और भी गर्म हो जाता। फिर चुदाई के बाद मैंने मम्मी की गाँड सहलाई तो मम्मी को थोड़ा दर्द हुआ। फिर मैं मम्मी से बोला के आज के बाद नहीं मारूंगा। फिर मम्मी ने मेरी तरफ देखा। मम्मी की आंखों में पानी था। फिर मम्मी बोली के नहीं आगे से और जोर से मारना। इस दर्द का अपना अलग ही मजा हैं। फिर मैं मम्मी के गले लग गया। फिर हम सो गए। 


फिर आधी रात के बाद मेरे पेशाब आने लगा तो फिर मैं उठा और मम्मी की छाती पर बैठ गया और अपने लंड से मम्मी की गालों को सहलाने लगा। फिर मम्मी जाग गई और मेरा लंड सामने देखा तो फिर मम्मी उसके किस करने लगी। फिर मैंने लंड मम्मी के मुँह में डाला तो मम्मी चुसने लगी। फिर मैं पेशाब करने लगा तो फिर मम्मी मेरा पेशाब पीने लगी। फिर मैंने 2-3 बार मे पूरा पेशाब कर दिया और मम्मी सारा पेशाब पी गई। फिर मैं थोड़ा पीछे होकर बैठ गया के और मम्मी के बड़े बड़े बोबे दबाने लगा और फिर उनमें मुँह डालकर सो गया। फिर सुबह मम्मी मेरे से पहले उठ गई। तब मैं सीधा होकर लेटा था और मेरा लंड खड़ा था। फिर मम्मी मेरे ऊपर आती हैं और मेरा लंड अपनी चुत में लेकर बैठ जाती और फिर करने लगती हैं। फिर मेरी नींद खुलती हैं तो फिर मैं भी नीचे से धक्के लगाने शुरू कर देता हूँ। फिर मैं और मम्मी एक साथ ही झड़ जाते है और फिर मम्मी मेरे उपर ही लेट जाती हैं। 


फिर थोड़ी देर बाद हम उठ जाते हैं और बिस्तर पर ही फ्रेश होकर बाहर आ जाते। फिर मैं मैन गेट खोलकर बाहर चला जाता हूँ और देखने लगता हूँ। फिर मम्मी भी झाड़ू लेकर आ जाती हैं। मैं देखता हूँ के मैंन रोड पर कोई आ जा रहा नहीं होता हैं। फिर मैं मम्मी से मैंन रोड तक चलने के लिए कहता हूँ तो मम्मी मुस्कुराकर कहती हैं के चलो। फिर मैं मम्मी की कमर में में हाथ डालकर मैन रोड की तरफ चलने लगता हूँ और मम्मी भी मेरी कमर में हाथ डाल लेती हैं। फिर हम थोड़ी देर बाद मैन रोड तक पहुंच जाते है और फिर रुक जाते हैं। फिर हम देखते हैं तो मैन रोड पूरी खाली पड़ी थी। कोई आता जाता हुआ दिखाई नहीं दे रहा था। फिर मैं मम्मी को थोड़ा अंदर की तरफ लाकर लिप किस करने लग जाता हूँ और मम्मी को बाहों में भर लेता हूँ। फिर लिप किस के बाद मम्मी को दीवार के सहारे खड़ा करके मम्मी की गाँड मारने लग जाता हूँ। मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा था के मैं ऐसे सरेआम मम्मी की गाँड मार रहा हूँ। फिर थोड़ी देर बाद मैं झड़ जाता हूँ तो मम्मी मेरी तरफ देखकर हँसने लग जाती हैं। फिर हम वापिस आ जाते है और मम्मी बाहर झाड़ू निकालकर फिर अंदर आ जाती। मैं तब चारपाई पर बैठा था तो फिर मम्मी मेरी गोद में आकर बैठ जाती हैं और फिर मुझसे लिप किस करने लगती हैं। फिर बस हमारे दिन और रात इसी तरह गुजरने लगते हैं। 


घर मे ऐसी कोई जगह नहीं बची थी जहाँ मैंने मम्मी की चुदाई ना कि हो और घर के बाहर भी मैं मम्मी को कई बार चोद चुका था। पर फिर भी एक दूसरे से हमारा मन नहीं भरता था और हम एक दूसरे से चिपके रहते और करते रहते। इसी तरह हमे कई महीने बीत गए। फिर एक बार चुदाई के बाद मैं और मम्मी बातें कर रहे थे तो मम्मी मुझे अपनी और पापा की चुदाई के बारे में बताने लगी। मम्मी ने मुझे काफी बातें बताई। कमरे में पापा की तस्वीर लगी थी तो मम्मी पापा की तस्वीर की तरफ मुँह करके कहने लगी के अब आपके बेटे ने आपकी जगह ले ली हैं और मेरा बहुत खयाल रखता हैं। फिर मम्मी मेरी तरफ देखकर मुस्कुराने लग जाती हैं। फिर मम्मी ने मुझसे पूछा के तुमने मुझसे पहले और किसी से किया हैं। ये सुनकर मैं घबरा गया और सोचने लगा के क्या जवाब दूँ। फिर मेरे मन मे आया के सच ही बता देता हूँ। अब मम्मी भी मुझसे चुद रही हैं तो डर किस बात का। फिर मैंने कहा के हां। फिर मम्मी ये सुनकर खुश हुई और बोली के किससे किया हैं। फिर मैं बोला के आप नाराज तो नहीं होओगी। फिर मम्मी बोली के नाराज होने वाली क्या बात हैं। अब कर ही लिया हैं तो अब कोई क्या कर सकता हैं। फिर मैं बोला ले भाभी से। ये सुनकर मम्मी बोली के हाय राम कब किया। फिर मैंने मम्मी को सारी बात बताई और कहा के अगर भगवान ना करे कल को भाई को कुछ हो जाये तो भाभी का ख्याल मुझे ही रखना था और वैसे भी भाभी ने मुझे इसके लिए उकसाया था। फिर मम्मी बोली के ये तो ठीक हैं पर कल को तेरे भाई को इसका पता चलेगा तो वो क्या करेगा। 


कभी सोचा हैं। फिर मैं बोला के भाई को पता हैं। फिर मम्मी बोली के क्या पता हैं। फिर मैं बोला के मेरे और भाभी के बारे में। फिर मम्मी बोली के उसे किसने बताया। फिर मैं बोला के खुद भाभी ने बताया। फिर मम्मी बोली के तो फिर उसने तुम दोनों को कुछ नहीं कहा। फिर मैं बोला के भाभी ने उसे समझाया ही इस तरीके से था के फिर उसने हम दोनों को कुछ नहीं कहा। फिर हम दोनों ने मिलकर भाभी की एक साथ चुदाई की। ये सुनकर मम्मी के तो होश उड़ गए। फिर मम्मी बोली के उसने तुम दोनों से एक साथ चुदाई करवाई। फिर मैं बोला के हां कई बार। ये सुनकर तो मम्मी बिल्कुल हैरान हो गई। फिर मैं मम्मी से बोला के एक बात और बताऊँ। फिर मम्मी बोला के अभी बाकी रह गया क्या कुछ। फिर मैं बोला के हां। फिर मैं कहने लगा के जब तुम्हारे जोड़ो में दर्द होने लगता तो तुम तो टेबलेट लेकर बेसुध होकर सो जाती थी। फिर हम तीनों आंगन में चुदाई करते और फिर भाभी तुम्हारे कमरे में नंगी ही जाकर तुम्हारी मालिश करती। फिर एक बार मैं भाभी को बुलाने तुम्हारे कमरे में आया तो तुम्हे नंगी देखकर देखता ही रह गया। फिर भाई भी आ गया तो उसने भी तुम्हे नंगी देखा। फिर हम दोनों भाई तुम्हारे बदन की मालिश करते और भाभी पास खड़ी सब देखती रहती। फिर हम दोनों भाई। तुम्हारी चुत और गाँड में लंड डालकर रगड़ते और फिर झड़ जाते। तुम हमे भाभी से भी ज्यादा सेक्सी लगती थी। ये सब सुनकर तो मम्मी बस मेरी तरफ देखती रही और कुछ नहीं बोली। फिर मैं मम्मी से लिपकिस करने लगा। फिर मम्मी बोली के उन्हें हमारे बारे में सब पता हैं। फिर मैं बोला के हां। फिर मम्मी में पूछा के मैं तुम्हारे साथ तुम्हारी बीवी बनकर रहूँ तो उन्हें कोई एतराज तो नहीं होगा ना। फिर मैं बोला के बिल्कुल नहीं। फिर ये सुनकर मम्मी खुश होकर मेरे गले लग गई। फिर मम्मी बोली के चल तेरी भाभी को फोन लगा। फिर मैंने भाभी को फोन लगाया तो फिर भाभी ने वीडियो कॉल शुरू कर दी। भाभी भी नंगी ही थी। फिर भाभी ने बताया के सब घरवाले बाहर गए है तो अभी उंगली कर रही थी। फिर भाभी ने मम्मी के बारे में पूछा तो मैंने फोन का कैमरा मेरे लंड की तरफ कर दिया और मेरा लंड मम्मी सहला रही थी। ये देखकर भाभी हँसने लगी और बोली के खूब मजे कर रहे हो। फिर मम्मी बोल पड़ी और कहने लगी के बेटी तुम्हारे बिना मजा कहाँ आ रहा हैं। फिर ये सुनकर भाभी के चेहरे की हवाइयां उड़ गई और बोली के ये किसकी आवाज हैं। 


फिर मम्मी ने मेरे हाथ से फोन लेकर खुद बात करने लगी और बोली के तुम्हारी सास की। फिर सास को देखकर भाभी घबरा गई। फिर मम्मी बोली के फोन मत काटना। फोन काट दिया तो देख लेना। फिर भाभी अपने हाथ से अपने बोबे छुपाने लगी। फिर सास बोली के अब इसकी कोई जरूरत नहीं हैं। फिर भाभी का मुँह शर्म से लाल हो गया। फिर मम्मी बोली के मेरे दोनों बेटों से मजे कर रही हैं और अब शर्मा रही हैं। ये सुनकर भाभी हँसने लगी। फिर मैं मम्मी के पीछे खड़ा होकर मम्मी के बोबे दबाने लगा। फिर मम्मी और भाभी एक दूसरे से बातें करनी लगी और कुछ देर बाद तो ऐसे बातें करने लगी के जैसे ये हर रोज एक दूसरे से नंगी होकर बातें करती हैं। फिर मैंने इसका एक स्क्रीन शॉट ले लिया जिसमे मम्मी और भाभी की एक दूसरे से वीडियो कॉल पर बात करने की नंगी फ़ोटो आ गई। उन्होंने काफी बातें की। फिर भाभी ने मम्मी से पूछा के देवर जी आपको खुश तो रखते हैं क्या। फिर मम्मी बोली के खुश क्यों नहीं रखेगा तुमने जो ट्रेनिंग दी हैं इसे। ये सुनकर फिर भाभी और मम्मी हँसने लगी। फिर फ़ोन मम्मी के हाथ से लेकर मैंने ऐसी जगह रख दिया जहाँ बेड पूरा दिख रहा हो। फिर मैं मम्मी के ऊपर आकर मम्मी की चुदाई करने लगा। हमारी चुदाई देखकर भाभी भी गर्म हो गई और फिर वो भी अपनी चुत में उंगली करने लगीं। फिर मैं मम्मी को घोड़ी बनाकर चोदने लगा। फिर कुछ देर चुदाई के बाद मैं झड़ गया और भाभी और मम्मी भी झड़ गई। फिर मम्मी फोन लेकर आंगन में चली गई और फिर भाभी से बात करने लगी। फिर भाभी बोली के मैं ये सब उनको फोन करके बताऊंगी। फिर मम्मी बोली के मुझे तो शर्म आ रही हैं। फिर भाभी बोली के उन्होंने आपको काफी बार नंगी देखा हैं तो शर्माने वाली कोई बात नहीं हैं और वैसे भी एक बार बेशर्म हो जाओ फिर तो मजे ही मजे हैं। फिर इस बात पर वो दोनों हँसने लगी। फिर पूरे दिन उनकी बातें चलती रही। फिर शाम हो गई तो फोन कट किया और फिर मम्मी खुशी से नाचने लगी। मम्मी उस दिन काफी खुश हुई भाभी से बात करके। 


फिर मम्मी ने खाना बनाया और फिर खाना खाया ही था के भाभी का फिर से फोन आ गया और फिर हम बात करने लगे। भाभी के घरवाले आ गए थे तो भाभी ने ज्यादा बात नहीं कि और फिर फोन काट दिया। फिर मैं और मम्मी चुदाई करने लगे। उस दिन मम्मी काफी अच्छे से चुदवा रही थी। हमने कई बार चुदाई की और फिर सो गए। अगले दिन उठे तो भाभी ने अपनी नंगी फ़ोटो भेज रखी थी और मम्मी को भी दिखाने के लिए बोला था। फिर मैंने मम्मी को भी दिखाई। फिर मम्मी बोली के तू मेरी फ़ोटो भी भेज दे उसे। फिर मैंने मम्मी की कई पोज में फ़ोटो खींची और फिर भाभी को भेज दी तो फिर भाभी ने रिप्लाई किया के मम्मी तो किसी मॉडल से कम नहीं हैं। फिर ये मैंने मम्मी को बताया तो मम्मी हँसने लगी। 


आगे कहानी जारी रहेगी.......

Post a Comment

नया पेज पुराने